• SANJEEV posted an update 1 week, 3 days ago

    दीपावली पूजा विधि एवं शुभ मुहूर्त
    〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️
    हर वर्ष भारतवर्ष में दिवाली का त्यौहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. प्रतिवर्ष यह कार्तिक माह की अमावस्या को मनाई जाती है. रावण से दस दिन के युद्ध के बाद श्रीराम जी जब अयोध्या वापिस आते हैं तब उस दिन कार्तिक माह की अमावस्या थी, उस दिन घर-घर में दिए जलाए गए थे तब से इस त्यो…[Read more]

  • mansi posted an update 1 week, 6 days ago

    💇💇💇💇💇💇💇

    एक औरत गर्भ से थी
    पति को जब पता लगा
    की कोख में बेटी हैं तो
    वो उसका गर्भपात
    करवाना चाहते हैं
    दुःखी होकर पत्नी अपने
    पति से क्या कहती हैं :-

    👧👧👧👧👧👧👧👧
    🙏सुनो,
    ना मारो इस नन्ही कलि को,
    वो खूब सारा प्यार हम पर
    लुटायेगी,
    जितने भी टूटे हैं सपने,
    फिर से वो सब सजाएगी..…[Read more]

  • *एक नसीहत*

    ट्रेन में एक 18-19 वर्षीय खूबसूरत लड़की चढ़ी जिसका सामने वाली बर्थ पर रिजर्वेशन था ..
    उसके पापा उसे छोड़ने आये थे। .
    अपनी सीट पर बैठ जाने के बाद उसने अपने पिता से कहा “डैडी आप जाइये अब, ट्रेन तो दस मिनट खड़ी रहेगी यहाँ दस मिनट
    का स्टॉपेज है।” .
    उसके पिता ने उदासी भरे शब्दों के साथ कहा “कोई बात नहीं बेटा, 10 मिनट और तेरे साथ बिता ल…[Read more]

  • raghav posted an update 3 weeks, 2 days ago

    जब भी आपका हौसला आसमान में जायेगा
    याद रखना पंख काटने कोई न कोई जरूर आएगा
    इसलिए छोटे पंख होने पर भी उड़ने का हौसला बरकरार रखो

  • raghav posted an update 3 weeks, 2 days ago

    *पितामह भीष्म के जीवन का एक ही पाप था कि उन्होंने समय पर क्रोध नहीं किया*
    और
    *जटायु के जीवन का एक ही पुण्य था कि उसने समय पर क्रोध किया*

    _”परिणामस्वरुप एक को बाणों की शैय्या मिली और एक को प्रभु श्री राम की गोद_

    *वेद कहता है– “क्रोध भी तब पुण्य बन जाता है, जब वह “धर्म” और “मर्यादा” के लिए किया जाए,*…[Read more]

  • ऋषि पराशर द्वारा प्रणीत विष्णु पुराण वैष्णव महापुराण है। जो सब पातकों का नाश करने वाला है। इसमें भूगोल, ज्योतिष, कर्मकाण्ड, राजवंश और श्रीकृष्ण-चरित्र आदि बहुत सारे प्रंसगों का वर्णन किया गया है। सुखी और वैभवशाली जीवन का निर्वाह करने की इच्छा रखने वाले महिला-पुरूष को इसमें बताई गई बातों का ध्यान रखना चाहिए। कुछ ऐसे काम हैं जिन्हें लंबा नहीं खींचना…[Read more]

  • mansi posted an update 3 weeks, 4 days ago

    जो पुत्र पैदा ही न हुआ हो अथवा पैदा होकर मृत हो अथवा मुर्ख हो। इन तीनों में पहले दो ही बेहतर हैं। न की तीसरा, कारण यह है की प्रथम दोनों तो एक बार ही दुःख देते हैं। जबकि तीसरा पद-पद दुःखदायी होता है

  • mansi posted an update 3 weeks, 4 days ago

  • raghav became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • raghav became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • roshan hindu became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • roshan hindu became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • mansi became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • mansi became a registered member 3 weeks, 5 days ago

  • Load More