• SANJEEV posted an update 1 month, 1 week ago

    हिन्दू धर्म सभी जाने जाने वाले धर्मों में सबसे अधिक संगठित धर्म हैं — इसकी धार्मिक पुस्तकें की तिथि 1400 से 1500 ईसा पूर्व की मानी जाती है। यह साथ ही यह भी सबसे अधिक विविधता और जटिलता भरा है, जिसमें लाखों की सँख्या में देवतागण पाए जाते हैं। हिन्दूओं की मूल मान्यताओं की विस्तृत विविधता है और यह कई भिन्न सम्प्रदायों में विद्यमान पाया जाता है। यद्यपि यह संसार का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है, तथापि हिन्दू धर्म मुख्य रूप से भारत और नेपाल में पाया जाता है।

    हिन्दू धर्म की मूल पुस्तकें वेद (जिन्हें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है), उपनिषद्, महाभारत और रामायण है। इन लेखों, भजन, मंत्र, दर्शन, अनुष्ठान, कविताएँ, कहानियाँ इत्यादि पाई जाती हैं, जहाँ से हिन्दू अपनी मान्यताओं को प्राप्त करते हैं। हिन्दू धर्म में उपयोग होने वाली अन्य पुस्तकें ब्राह्मण, सूत्र और अरण्यक हैं।

    यद्यपि हिन्दू धर्म को अक्सर बहुईश्‍वरवादी समझा जाता है, जिसमें सम्भवत 33 करोड़ देवतागण पाए जाते हैं, इसमें साथ ही एक “ईश्‍वर” भी है, जो सर्वोच्च है — अर्थात् ब्रह्मा। ब्रह्मा एक ऐसा तत्व है, जो वास्तविकता के सभी हिस्सों में वास करता है और जो अभी तक के पूरे ब्रह्माण्ड में अस्तित्व में है। ब्रह्मा दोनों ही अर्थात् अवैयक्तिक और अज्ञेय है और इसे अक्सर तीन भिन्न रूपों: ब्रह्मा — सृष्टिकर्ता; विष्णु — संभालने वाला; और शिव — नाश करने वाला के अस्तित्व में होना माना जाता है। ब्रह्मा की यह “सच्चाइयाँ” उसके कई अन्य अवतारों के द्वारा जानी जा सकती हैं। हिन्दू दर्शन को सारांशित करना अत्यन्त कठिन है क्योंकि इसकी प्रत्येक विचारधारा लगभग सभी धर्मवैज्ञानिक पद्धतियों के तत्वों को अपने में समाहित किए हुए है।