• raghav posted an update 8 months ago

    साभार
    हजारों साल से #शूद्र #दलित मंदिरों में पूजा करते आ रहे थे पर अचानक 19वी० शताब्दी में ऐसा क्या हुआ कि दलितों को मंदिरों में प्रवेश नकार दिया गया?
    क्या आप सबको इसका सही कारण मालूम है?
    या सिर्फ बामनों को गाली देकर मन को झूठी तसल्ली दे देते हो?
    पढिये सबूत के साथ क्या हुवा था उस समय
    अछूतों को मन्दिर में न घुसने देने की सच्चाई क्या है…
    ये काम पुजारी करते थे कि मक्कार अंग्रेजो के लूटपाट का षड्यंत्र था
    1932 में लोथियन कॉमेटी की रिपोर्ट सौंपते समय डॉ #आंबेडकर नें अछूतों को मन्दिर में न घुसने देने का जो उद्धरण पेश किया है वो वही लिस्ट है जो अंग्रेजो ने #कंगाल यानि गरीब लोगों की लिस्ट बनाई थी जो मन्दिर में घुसने देने के लिए अंग्रेजों द्वारा लगाये गए टैक्स को देने में असमर्थ थे…..

    #षड़यंत्र… 1808ई० में ईस्ट इंडिया कंपनी पूरी के* *श्रीजगन्नाथ मंदिर को अपने कब्जे में लेती है और फिर लोगो से कर वसूला जाता है तीर्थ यात्रा के नाम पर कर ….

    हिन्दुयोँ के चार ग्रुप बनाए जाते हैं!इसमें से चौथा ग्रुप जो कंगाल है, उनकी एक लिस्ट जारी की जाती है….1932 ई० में जब डॉ आंबेडकर अछूतों के बारे में लिखते हैं तो वे ईस्ट इंडिया के जगन्नाथ पुरी मंदिर के दस्तावेज की लिस्ट को अछूत बनाकर लिखते हैं….

    भगवान जगन्नाथ के मंदिर की यात्रा को यात्रा कर में बदलने से ईस्ट इंडिया कंपनी को बेहद मुनाफ़ा हुआ और यह 1809 से1840 तक निरंतर चला ।* *जिससे अरबो रूपये सीधे अंग्रेजो के…
    खजाने में बने और इंग्लैंड पहुंचे
    श्रद्धालु यात्रियों को चार श्रेणियों में विभाजित किया जाता था….
    प्रथम श्रेणी = #लाल_जतरी….उत्तर के धनी यात्री
    द्वितीय श्रेणी = #निम्न_लाल….दक्षिण के धनी यात्री
    तृतीय श्रेणी = #भुरंग ….यात्री जो दो रुपया दे सके
    चतुर्थ श्रेणी = #पुंज_तीर्थ….कंगाल की श्रेणी जिनके पास दो रूपये भी नही मिलते थे तलाशी लेने के बाद

    चतुर्थ श्रेणी के नाम इस प्रकार हैं….
    1. लोली या कुस्बी
    2. कुलाल या सोनारी
    3.मछुवा
    4.नामसुंदर या चंडाल
    5.घोस्की
    6.गजुर
    7.बागड़ी
    8.जोगी
    9.कहार
    10. राजबंशी
    11.पीरैली
    12. चमार
    13.डोम
    14.पौन
    15.टोर
    16.बनमाली
    17.हड्डी
    प्रथम श्रेणी से 10 रूपये…द्वितीय श्रेणी से 6 रूपये
    तृतीय श्रेणी से 2 रूपये और चतुर्थ श्रेणी से कुछ नही
    अब जो कंगाल की लिस्ट है जिन्हें हर जगह रोका जाता था और मंदिर में नही घुसने दिया जाता था क्योंकि वो एन्ट्री फीस नही दे पाते थे … ठीक वैसे ही जैसे आज आप ताजमहल/लालकिला
    में बिना एन्ट्री नही जा सकते आप यदि उस समय 10 रूपये भर सकते थे तो आप सबसे अच्छे से ट्रीट किये जाते थे ….
    डॉ आंबेडकर ने अपनी Lothian Commtee Report में इसी लिस्ट का जिक्र किया है और कहा की कंगाल पिछले 100 साल में
    कंगाल ही रहे… खुद पढिये …

    “In regard to the depressed classes of Bengal there is an important piece of evidence to which I should like to call attention and which goes to show that the list given in the Bengal Census of 1911 is a correct enumeration of caste which have been traditionally treated as untouchable castes in Bengal. I refer to Section* *7 of Regulation IV of 1809 (A regulation for rescinding* *Regulations IV and V of 1806 ; and for* *substituting rules in lieu of those enacted in the said regulations for levying duties from the pilgrims resorting to Jagannath, and for the superintendence and management of the affairs of the temple;* *passed by the Governor-General in Council, on the 28th of April 1809) which gives the following list of castes which were* *debarred from entering the temple of Jagannath at Puri : (1) Loli or Kashi, (2) Kalal or Sunri, (3) Machhua, (4) Namasudra or Chandal, (5) Ghuski, (6) Gazur, (7) Bagdi, (8) Jogi or Nurbaf, (9) Kahar-Bauri and Dulia, (10) Rajbansi, (II) Pirali, (12) Chamar, (13) Dom, (14) Pan, (15) Tiyar, (16) Bhuinnali, and (17) Hari.*
    *The enumeration agrees with the list of 1911 Census and thus lends support to its correctness. Incidentally it shows that a period of 100 years made no change in the social status of the untouchables of Bengal.

    बाद में वही कंगाल षडयंत्र के तहत अछूत बनाये गए
    हिन्दुओ के सनातन धर्म में छुआछुत बेसिक रूप से कभी था ही नहीं यदि ऐसा होता तो सभी हिन्दुओ के श्मशानघाट और चिताअलग अलग होती … और मंदिर भी जातियों के हिसाब से ही बने होते और हरिद्वार में अस्थि विसर्जन भी जातियों के हिसाब से ही
    होता ….
    ये जातिवाद ईसाई और मुसलमानों में है । इनमें जातियों और फिरको के हिसाब से अलग अलग चर्च और अलग अलग मस्जिदें हैं और अलग अलग कब्रिस्तान बने हैं …
    हिन्दओं में जातिवाद, भाषावाद, प्रान्तवाद, धर्मनिपेक्षवाद,जडतावाद, कुतर्कवाद, गुरुवाद, राजनीतिक पार्टीवाद पिछले 1000 वर्षों से मुस्लिम और अग्रेजी शासको ने षडयंत्र से डाला है ….

    जिस पर से #कांग्रेस नाम के राजनीतिक दल ने पिछले 70 वर्षो तक अपनी राजनीति की रोटियां सेकीं और जूते में दाल खाई…
    षडयंत्रो को समझो हिन्दुओ…
    आप लोगो को कमजोर करने के लिए भेदभाव डाला जाता है ……